Biography - ICDSUPWEB.ORG

Biography

अखिलेश यादव बायोग्राफी: पत्नी, परिवार, नेटवर्थ, आयु, जीवन परिचय

Akhilesh Yadav Biography in Hindi: अखिलेश यादव जीवन परिचय, अखिलेश यादव बायोग्राफी, Akhilesh Yadav Wife, Akhilesh Yadav Mother Name, अखिलेश यादव: पत्नी, परिवार, नेटवर्थ, आयु, – जीवनी से सम्बंधित जानकारी इस लेख में प्राप्त कर सकते है। आज हम आपको नये जमाने के युवा नेता अखिलेश यादव जी के बारें में बतायेंगे। हम इस लेख में आपको इनके प्रारंभिक जीवन, परिवार, नेटवर्थ, राजनीतिक जीवन शिक्षा और मुख्यमंत्री के रूप में इन्होनें क्या-क्या कार्य किया इसके बारें में आपको विस्तार से बतायेंगे। इसके लिए आपको यह लेख अंत तक पढ़ना होंगा।

अखिलेश यादव बायोग्राफी || Akhilesh Yadav Biography in Hindi

दोस्तों यदि आप भारत देश की राजनीती में थोड़ी बहुत भी रूचि रखते है तो आप अखिलेश यादव जी का नाम कई बार सुना होगा। ऐसा इस लिए क्योंकि वो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके है और इससे पहले भी लगातार तीन बार सांसद भी बन चुके है। इन्होंने समाजवादी पार्टी के संस्थापक रहे श्री मुलायम सिंह यादव जी से 2012 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव और पार्टी की कमान अपने हाथ में ली और उत्तर प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी।

अखिलेश यादव: प्रारंभिक जीवन, जन्म तिथि, शिक्षा, Mother Name

अखिलेश यादव का जन्म 01 जुलाई 1973 में सैफई, जिला ईटावा, उत्तर प्रदेश में हुआ था। यह समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव के पहली पत्नी मालती देवी के पुत्र है। इनकी सौतेली मां का नाम साधना गुप्ता है और प्रतीक यादव इनके सौतेले भाई है। अखिलेश यादव की प्रारंभिक शिक्षा धौलपुर मिलिट्री स्कूल, राजस्थान से की है। इसके बाद अखिलेश यादव ने मैसूर विश्वविद्यालय, मैसूर और सिडनी के विश्वविद्यालय, आस्ट्रेलिया से मास्टर डिग्री सिविल पर्यावरण इंजिनियरिंग और मास्टर डिग्री पर्यावरण इंजिनियरिंग में पढ़ाई की।

Akhilesh Yadav Biography
Akhilesh Yadav Biography

Akhilesh Yadav Wife, Family, Daughter, Son

अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद में अखिलेश ने राजनीतिक दुनिया में प्रवेश किया। इनकी शादी 24 नंवबर 1999 को डिंपल यादव से हुई। इनकी दो बेटियां जिनका नाम अदिति यादव और टीना यादव है। इनके बेटे का नाम अर्जुन यादव है। इनका पूरा परिवार अब लखनऊ में रहता है। उत्तर प्रदेश में इनका काफी नाम है। कुछ समय पहले ये उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रहे थे, पूरे पांच साल तक इनकी सरकार उत्तर प्रदेश में बरकरार रही। अखिलेश यादव पढ़े लिखे नेता है जिनकी सूझ-बूझ से राजनीति में उन्होनें अपना खुद का मुकाम बनाया। वर्तमान समय में अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश राज्य के एक जिले के सासंद है और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष है।

अखिलेश यादव जीवन परिचय

वास्तविक नाम अखिलेश यादव
उपनाम टीपू
व्यवसाय भारतीय राजनेता
राजनीतिक पार्टी समाजवादी पार्टी
राजनीतिक यात्रा 2000: उप-चुनाव में, वह कन्नौज लोकसभा क्षेत्र से 13वीं लोकसभा के सदस्य चुने गए।

2004: लोकसभा चुनावों में, वह 14वीं लोकसभा के सदस्य चुने गए।

2009: आम चुनाव में, वह तीसरे कार्यकाल के लिए 15वीं लोकसभा के सदस्य चुने गए।

10 मार्च 2012: को, उन्हें समाजवादी पार्टी का नेता नियुक्त किया गया।

15 मार्च 2012 को, वह 38 वर्ष की आयु में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने।

मई 2019 में लोकसभा चुनाव में एकबार फिर से आजमगढ़ लोकसभा सीट से जीत दर्ज की।

अखिलेश यादव शारीरिक संरचना

लम्बाई (लगभग) से० मी०- 170
मी०- 1.70
फीट इन्च- 5’ 7”
वजन/भार (लगभग) 65 कि० ग्रा०
आँखों का रंग भूरा
बालों का रंग काला
रक्त समूह (Blood Group) B (+ve)

अखिलेश यादव व्यक्तिगत जीवन

जन्मतिथि 1 जुलाई 1973
आयु (2022 के अनुसार) 48 वर्ष
जन्मस्थान सैफई, जिला इटावा, उत्तर प्रदेश
राशि कर्क
राष्ट्रीयता भारतीय
गृहनगर सैफई, जिला इटावा, उत्तर प्रदेश
स्कूल/विद्यालय धौलपुर मिलिट्री स्कूल, धौलपुर, राजस्थान
कॉलेज/महाविद्यालय/विश्वविद्यालय
  • मैसूर विश्वविद्यालय, मैसूर, कर्नाटक, भारत
  • सिडनी विश्वविद्यालय, ऑस्ट्रेलिया
शैक्षिक योग्यता मास्टर डिग्री: पर्यावरण इंजीनियरिंग में
डेब्यू वर्ष 2000 में, वह उत्तर प्रदेश के कन्नौज लोकसभा क्षेत्र से सांसद के रूप में चुने गए।
परिवार पिता – मुलायम सिंह यादव (उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री)

माता– माल्ती देवी (सगी मां), साधना गुप्ता (सौतेली मां)

भाई– प्रतीक यादव (सौतेला भाई)

बहन– लागू नहीं

धर्म हिन्दू
जाति क्षत्रिय
पता 5 विक्रमादित्य मार्ग, लखनऊ, उत्तर प्रदेश
शौक/अभिरुचि फुटबॉल खेलना, क्रिकेट खेलना, संगीत सुनना, फिल्म देखना, पुस्तकें पढ़ना

अखिलेश यादव की पसंदीदा चीजें

पसंदीदा राजनेता राम मनोहर लोहिया
पसंदीदा संगीतकार Guns N’ Roses, Bon Jovi, Bryan Adams and Metallica

प्रेम संबन्ध एवं अन्य जानकारियां

वैवाहिक स्थिति विवाहित
विवाह तिथि 24 नवंबर 1999
पत्नी डिंपल यादव
बच्चे
  • बेटा :- अर्जुन यादव
  • बेटी :- अदिति यादव, टीना यादव

अखिलेश यादव नेटवर्थ

आय
संपत्ति/नेटवर्थ (लगभग) 50 करोड़ रुपए

अखिलेश यादव बायोग्राफी: राजनीति में भागीदारी

सबसे पहले सन् 2000 में उपचुनाव में कन्नौज 13वीं लोकसभा क्षेत्र के सदस्य चुने गये। यहीं से उनके राजनीतिक कैरियर की शुरूआत हुई। इसके बाद सन् 2004 में 14वीं लोकसभा के चुनाव में जीत हासिल किया। 2009 में अखिलेश यादव आम चुनाव में तीसरे कार्यकाल के लिए 15वीं लोकसभा के सदस्य चुने गये। 10 मार्च 2012 को अखिलेश यादव को समाजवादी पार्टी का नेता घोषित किया गया और 15 मार्च 2012 को अखिलेश को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई गयी।

लगातार पांच साल तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहने के बाद 2017 में विधानसभा चुनाव में इनकी पार्टी को हर सामना करना पड़ा। इसके बाद वर्ष 2019 इन्होंने आजमगढ़ लोकसभा सीट से चुना लड़ा और अपनी जीत दर्ज कराई। अब वर्ष 2022 में एकबार यूपी में विधानसभा के चुनाव होने जा रहे है। किस की पार्टी उत्तर प्रदेश को अपना मुख्यमंत्री देगी इसका फैसला चुना परिणाम आने के बाद होगा।

You May Also Likes

योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी (हिंदी में): जीवन परिचय, उम्र, पत्नी का नाम, शिक्षा, राजनीतिक जीवन, नेटवर्थ

‘भारत रत्‍न’ अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी: Biography in Hindi, उपलब्धियां, जीवन परिचय, Quotes

[Miss Universe 2021] हरनाज कौर संधू बायोग्राफी, जीवन परिचय, Awards, Biography in Hindi

अखिलेश यादव द्वारा मुख्यमंत्री के रूप में किये गए महत्वपूर्ण कार्य

मार्च 2012 में विधानसभा चुनाव में 228 वोटों से जीतकर वह उत्तर प्रदेश के 33वें मुख्यमंत्री बनें। अखिलेश यादव ने अपने कार्यकाल में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे बनवाया जो भारत का आधुनिक एक्सप्रेस है। यादव ने उत्तर प्रदेश में यू0पी0 100 पुलिस सेवा और 108 एंबुलेस फ्री सेवा को शुरू किया। इसके अलावा अखिलेश यादव ने अपने कार्यकाल में लखनऊ मैट्रो रेल, लखनऊ इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम आदि को बनवाया।

[Join Us on Telegram]

अखिलेश यादव से संबंधित जुड़ी रोचक जानकारियाँ

अखिलेश यादव के जीवन से जुड़ी कई रोचक जानकारियाँ इस प्रकार है:

  • अखिलेश यादव को खेल के प्रति बहुत लगाव है। वह क्रिकेट और फुटबाल को खेलना बहुत पसंद करते है।
  • वह सिडनी विश्वविद्यालय में पढ़ने के दौरान संगीत की तरफ आकर्षित हो गये और उन्होनें Guns N Roses, Bryan Adams और Metallica के गाने बहुत पसंद है।
  • राजनीती के विषय के बारे में बात करे तो इनके मुख्य प्रतिद्वन्दी पहले मायावती थी और अब भारतीय जनता पार्टी है।
  • इनके पसंदीदा नेता की बात करे तो उनका नाम: राम मनोहर लोहिया है।
  • अखिलेश यादव एक समाजवादी विशेषज्ञ है जो कि समाज में हो रहे घटित सामाजिक मुद्दों पर अच्छे ढंग से विवेचना कर सकते है।
  • मात्र 27 वर्ष की उम्र में 2000 में यह कन्नौज के 13वीं लोकसभा में चुनाव जीतकर लोकसभा के सदस्य बनें।
  • मात्र 38 वर्ष की उम्र में अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री के तोर पर शपथ ली थी।

इस प्रकार इस लेख में हमने आपको अखिलेश यादव बायोग्राफी और इनकी जीवनी से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्यों के बारें में बताया। आशा करते है आपको यह लेख पसंद आया होगा और अगर आपको इस जीवनी से संबंधित को प्रश्न पूछना है तो आप हमें कमेंट बाक्स में लिख सकते हो हम उसको समझाने की पूरी कोशिश करेंगे।

अखिलेश यादव से जुड़े कुछ विवाद (Controversy)

वैसे तो राजनीति में वाद-विवाद चलता रहता है। परन्तु हम अखिलेश जी जुड़े कुछ विवादों की जानकारी यहां देने जा रहे है जिसके वजह से उन्हें कई बार सुर्खियां मिलती रही।

  • वर्ष 2013 में, अखिलेश यादव आईएएस अधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल के निलंबन के कारण विवादों में रहे।
  • मुजफ्फरनगर दंगों जोकि वर्ष 2013 में हुए उस दौरान 43 लोगों की जान गयी थी। इन दंगों के कारण सपा सरकार और अखिलेश यादव (मुख्यमंत्री) को काफी कुछ सहना पड़ा था।
  • वर्ष 2014 में, बॉलीवुड फिल्म “पीके” की जाली कॉपी डाउनलोड करने और देखने के जुर्म में उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई।
  • वर्ष 2016 में, कैराना के मुद्दे पर मीडिया द्वारा सवाल पूछने पर अखिलेश ने मीडिया पर अपमानजनक टिप्पणी करते हुए, मीडिया के खिलाफ अपशब्द कहे, जिससे उन्हें कड़ी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा।
  • वर्ष 2016-2017 में अखिलेश यादव और इनके पिता मुलायम सिंह यादव के बीच में झड़े की बाते आ रही थी और समजवादी पार्टी के कार्यक्रम में एक स्टेज पर मुलायम सिंह जी के हाथ से माइक छनते हुए अखिलेश यादव जी की वीडियो भी खूब वायरल हुई थी। हलाकि अब पिता और पुत्र के बीच में इस तरह का कोई विवाद नजर नहीं आ रहा है।

FAQs – अखिलेश यादव बायोग्राफी

प्रश्न: अखिलेश यादव का nick name क्या है?

उत्तर: अखिलेश यादव का उपनाम – टीपू है।

प्रश्न: अखिलेश यादव ने कहाँ तक पढ़ाई की है?

उत्तर: अखिलेश जी मास्टर डिग्री (पोस्ट ग्रेजुएट) पर्यावरण इंजीनियरिंग (ऑस्ट्रेलिया से) में कर रखी है।

प्रश्न: अखिलेश यादव ने राजनीति की शुरूआत कब की?

उत्तर: उन्होंने अपना राजनीतिक सफर की शुरूआत वर्ष 2000 में उत्तर प्रदेश के कन्नौज लोकसभा क्षेत्र से सांसद के रूप में जीत दर्ज की थी।

प्रश्न: अखिलेश यादव की पत्नी का क्या नाम है?

उत्तर: Akhilesh Yadav Wife – Dimple Yadav

प्रश्न: अखिलेश यादव नेटवर्थ क्या है? कुल कितनी सम्पति के मालिक है अखिलेश यादव?

उत्तर: अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार अखिलेश यादव लगभग 16 करोड़ रूपये के मालिक है।

Question: What is the Akhilesh Yadav Contact Number?

Answer: Akhilesh Yadav Contact No 0522-2986802, (011)-23386842

योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी (हिंदी में): जीवन परिचय, उम्र, पत्नी का नाम, शिक्षा, राजनीतिक जीवन, नेटवर्थ

Yogi Adityanath Biography in Hindi: योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी, जीवन परिचय , उम्र, पत्नी का नाम, शिक्षा, राजनीतिक जीवन, नेटवर्थ, भाई, परिवार, Contact Number, जीवनी, आदि की जानकारी इस लेख के द्वारा आप प्राप्त कर सकते है। दोस्तों, आज हम आपको एक ऐसी शख्सियत के बारे में बताने जा रहे है, जिसका नाम अपने कई बार उत्तर प्रदेश की राजनीती की खबरों में जरूर सुना होगा। जी, हां उनका नाम है श्री योगी आदित्यनाथ जी जोकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री भी रह चुके है। हम इस लेख में योगी आदित्यनाथ के प्रारंभिक जीवन, राजनैतिक जीवन, परिवार और मुख्यमंत्री के रूप में प्राप्त की गयी उपलब्धियों के बारें में प्रकाश डालेंगे।

योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी [Yogi Adityanath Biography in Hindi]

योगी आदित्यनाथ जी का नाम वैसे तो कई बार सुर्खियों में रहते है, लेकिन सबसे ज्यादा उनको सुर्खियों तब देखा गया जब उनका नाम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप घोषित किया गया था। सन् 19 मार्च 2017 रविवार के दिन उन्होंने यूपी के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी। अब उन्होंने मुख्यमंत्री के रूप में अपने पाँच वर्ष भी पुरे कर लिए है। योगी आदित्यनाथ जी ने भारतीय जनता पार्टी (BJP) की तरफ से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की कमान अपने हाथों में ली थी। सबसे पहले सन् 1998 में भारत के बारहवें लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज कर सबसे कम उम्र में सांसद के रूप में शपथ ली थी। तब उनकी उम्र महज 26 वर्ष थी।

Yogi Adityanath Biography

योगी आदित्यनाथ जीवन परिचय: प्रारंभिक जीवन, शिक्षा, परिवार

प्रारंभिक जीवन: योगी आदित्यनाथ जिनका मूल नाम अजय सिंह बिष्ट है। वर्तमान समय में यह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मन्दिर के महन्त है। योगी जी का जन्म 05 जून 1972 को उत्तराखंड के पौढ़ी गढ़वाल जिले में स्थित यमकेश्वर तहसील के पंचूर गांव के एक गढ़वाली क्षत्रिय परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट है जो फॉरेस्ट रेंजर थे। इनकी माता सावित्री देवी एक कुशल गृहिणी है। इनके परिवार में इनके तीन बहनें और तीन भाई है। जिसमें योगी आदित्यनाथ पांचवें नंबर पर है।

Yogi Adityanath Educational Qualification (शिक्षा)

इनकी प्रारंभिक शिक्षा पौड़ी उत्तराखंड के प्राथमिक विद्यालय में हुई। प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद योगी आदित्यनाथ ने हेमवती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय से गणित और विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद योगी ने गणित में एमएससी की शिक्षा प्राप्त करने के लिए दाखिला लिया पर राम मंदिर में हो रहे आंदोलन के कारण इनका मन विचलित हो गया और इनका ध्यान पढ़ाई से हट गया।

वैसे तो इनका राजनैतिक जीवन बचपन में ही शुरू हो गया था। कॉलेज में इनकी गिनती अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के उभरते हुए नेताओं में की जाने लगी थी इसलिए इन्होनें छात्र चुनाव संघ में लड़ने की योजना बनाई जिसमें अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने इनको टिकट नहीं दी जिसके चलते योगी ने निर्दलीय सदस्य के रूप में नामांकन भरा जिसमें सन् 1992 में यह चुनाव हार गयें। मात्र 22 वर्ष की उम्र में योगी ने सांसारिक जीवन को त्यागकर संन्यास आश्रम में प्रवेश किया।

योगी आदित्यनाथ सन्यासी जीवन की शुरुआत

सन्यास जीवन शुरू करने के लिए योगी ने महंत अवैद्यनाथ से मुलाकात की जिसके बाद इनका नाम अजय सिंह बिष्ट से योगी आदित्यनाथ हो गया। सन्यास जीवन ग्रहण करने के बाद योगी ने घर त्यागने, और परिवार त्यागने के बाद देशसेवा और समाज सेवा करने का संकल्प लिया। सन् 15 फरवरी 1994 को मंहत अवैद्यनाथ ने योगी को नाथ संप्रदाय की गुरु दीक्षा दी और उन्हें अपना शिष्य बना लिया। इसके बाद अजय सिंह बिष्ट का नाम बदलकर योगी आदित्यनाथ हो गया। 12 सितंबर 2014 को महंत अवैद्यनाथ के निधन के बाद योगी आदित्यनाथ को गोरखनाथ मंदिर का महंत बनाया गया और नाथ पंथ के पारंपरिक अनुष्ठान के अनुसार मंदिर का पीठाधीश्वर बनाया गया।

Highlights of Yogi Adityanath Biography in Hindi (योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी)

पूरा नाम (Real Name) अजय सिंह बिष्ट
अन्य नाम महंत योगी आदित्यनाथ
निक नेम (Nick Name) योगी
जन्म (Date of Birth) 05 जून 1972
जन्मस्थान (Birth Place) पिचूर गाँव, पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखंड, भारत
गृहनगर गोरखपुर, उत्तरप्रदेश, भारत
पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट
माता का नाम सावित्री देवी
पत्नी का नाम
धर्म हिन्दू (नाथ संप्रदाय)
उम्र 49 साल
जाति ठाकुर
स्कूल पुरी प्राइमरी स्कूल, उत्तराखंड
कॉलेज गढ़वाल यूनिवर्सिटी, श्रीनगर, उत्तराखंड
शैक्षणिक योग्यता गणित में स्नातक (B.Sc)
अध्यात्मिक गुरु महंत अवैद्यनाथ महाराज
राष्ट्रीयता भारतीय
पेशा भारतीय राजनीतिज्ञ, धार्मिक मिशनरी
राजनीतिक दल भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)
नेटवर्थ लगभग 72 लाख प्रति वर्ष

Yogi Adityanath Family (परिवार)

जैसा की दोस्तों हम आपको पहले भी बताया ही की योगी जी के पिता एक फॉरेस्ट रेंजर और गोरखनाथ मंदिर के महंत थे और उनका शुभ नाम श्री आनंद सिंह बिष्ट था। पिता की मृत्यु के बाद योगी जी स्वम इस मंदिर के महंत है। इनकी माता एक गृहणी थी और उनका शुभ नाम सावित्री देवी था। इसके इलावा योगी आदित्यनाथ के परिवार में तीन बड़ी बहने, एक बड़ा भाई और दो छोटे भाई है। योगी जी अपने माता-पिता की पाँचवी औलाद है।

पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट
माता का नाम सावित्री देवी
भाई का नाम महेंद्र सिंह बिष्ट एवं 2 और है
बहन का नाम शशि एवं 2 और है
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
पत्नी (Wife) नहीं है
प्रेमिका (Girlfriend) नहीं है

योगी आदित्यनाथ राजनीतिक जीवन (Yogi Adityanath Political Career)

योगी आदित्यनाथ का राजनीति में प्रवेश: दिल्ली के बाद बिहार में अपनी हार के चलते भारतीय जनता पार्टी बहुत ही ज्यादा चिन्तित थी। इस समय उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ को स्थापित करने की चर्चा हो रही थी। सन् 2016 में गोरखनाथ मंदिर में एक सभा हुई जिसमें आरएसएस के सभी नेता शामिल हुए। इस सभा में यह निर्णय लिया गया कि योगी को मुख्यमंत्री बनाया जायें। इस सभा में संतो ने यह बात कही कि 1992 में जब संतो ने इकट्ठा होकर राम मंदिर बनाने का निर्णय लिया था तब ढांचा तोड़ दिया गया था। अगर सुप्रीम कोर्ट का फैसला हमारे पक्ष में भी आया तो भी मुलायम या मायावती के रहते राम मंदिर नहीं बन पायेंगा। इसके लिए हमें योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाना होंगा।

गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर में लोगों की बहुत आस्था है। मकर संक्राति में हर धर्म के लोग इस मंदिर में खिचड़ी चढ़ाने आते है जिसके चलते यह लोंगों आस्था का क्रेन्द्र बना और मंहत दिग्विजय नाथ ने इस मंदिर को 52 एकड़ में फैलाया। जिसके बाद मंहत अवैद्यनाथ ने इसको आगे बढ़ाया।

Also Read: ‘भारत रत्‍न’ अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी: Biography in Hindi, उपलब्धियां, जीवन परिचय, Quotes

महंत अवैद्यनाथ ने इसके बाद अपना राजनीतिक उत्तराधिकारी योगी आदित्यनाथ को बनाया जिसके लिए सन् 1998 में योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर से भाजपा प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़े और जीत गये। इस समय इनकी उम्र मात्र 26 साल की थी। योगी आदित्यनाथ बारहवीं लोकसभा के सबसे युवा सांसद थे। 1999 में यह दूसरी बार गोरखपुर से पुनः सांसद चुने गये। 2004 में तीसरी बार लोकसभा का चुनाव जीता। सन् 2009 में चौथी बार और 2014 मे पांचवी बार योगी आदित्यनाथ ने दो लाख से अधिक वोटों से जीतकर लोकसभा के सांसद चुने गये। 2014 में लोकसभा चुनाव में भाजपा को बहुमत मिला। इसके बाद उत्तर प्रदेश में 12 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुए जिसके लिए योगी आदित्यनाथ से काफी प्रचार कराया गया लेकिन परिणाम निराशाजनक रहा। 2017 में विधानसभा चुनाव में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने योगी आदित्यनाथ से पूरा प्रचार कराया जिसके परिणाम स्वरूप 19 मार्च 2017 को उत्तर प्रदेश के बीजेपी विधायक दल की बैठक में योगी आदित्यनाथ को विधायक दल का नेता चुनकर मुख्यंमत्री पद को सौंपा गया।

हिन्दू युवा वाहिनी का गठन

योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी (हिंदी में): योगी आदित्यनाथ ने निजी सेना के रूप में एक संगठन बनाया जिसका नाम हिन्दू युवा वाहिनी संगठन है। इस संगठन की आधारशिला सन् 2002 में राखी गयी थी। इस संगठन का मुख्य कार्य ग्राम रक्षा दल के रूप में हिंदू विरोधी, राष्ट्रवादी और माओवादी विरोधी गतिविधियों को नियंत्रित करना है। हिन्दू युवा वाहिनी के इन्ही कामों से गोरखपुर में शान्ति बढ़ने लगी है और वहीं दंगों की संख्या में भी कमी आने लगी है जिससे गोरखपुर के लोगों का योगी आदित्यनाथ पर विश्वास बढ़ने लगा जिसका परिणाम यह हुआ कि योगी 2014 के चुनाव में तीन लाख के अधिक वोटों से जीते। वहाँ की जनता योगी आदित्यनाथ से बहुत खुश है।

योगी आदित्यनाथ की दिनचर्या और पोशाक

योगी आदित्यनाथ को जानवरों से बहुत ज्यादा प्यार है खासकर गाय, कुत्ते, बिल्ली और बंदर से ज्यादा प्यार करते है। योगी आदित्यनाथ सुबह चार बजे उठ जाते है इसके बाद हठयोग करते है। जो 2 घंटे तक चलता है। योगी गायों से बहुत प्यार करते है जिसके कारण वह सुबह नास्ता करने से पहले गायों को चारा खिलाते है और योगा और प्रार्थना करने के बाद गौशाला में गायों की सेवा करते है। आदित्यनाथ की संस्था सड़कों पर पड़े बीमार और घायल जानवरों को अपनी संस्था में लाकर उनका इलाज और सेवा करती है।

आइये अब बात करते है की योगी आदित्यनाथ जी कैसे कपड़े पहनते है? योगी जी भगवा रंग का कुर्ता पहनते है। यह कुर्ता “नाखूनी सादा कुर्ता” के नाम से महसूर है। इसके पीछे एक कारण है क्योंकि इस कुर्ते को सिलने के लिए दर्जी के नाखून बड़े होने चाहिए। तभी वह यह कुर्ता सील सकता है। इसी लिए इसका नाम “नाखूनी सादा कुर्ता” पड़ा है। यह जानकारी योगी जी का कुर्ता सिलने वाले गोरखनाथ मंदिर कॉम्प्लेक्स के बुद्धिराम ने दी है। बुद्धिराम के अनुसार अब इस कुर्ते की मांग बढ़ गयी है। उन्होंने बताया की योगी जी को गोल गले वाले कुर्ते ही पसंद हैं।

मुख्यमंत्री के रूप में योगी आदित्यनाथ की उपलब्धियां

योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने बहुत सारे अहम फैसले लिए है जिनमें से कुछ मुख्य फैसलों / उपलब्धियां की जानकारी इस प्रकार है

  • सबसे पहले अवैध स्लॉटर हाउस को बंद करवाया।
  • एंटी रोमियो का अभियान चलाया जिसके चलते महिलाओं में सुरक्षा की भावना बढ़ी।
  • छोटे किसानों का कर्जा माफ किया।
  • उत्तर प्रदेश में माफिया का सफाया कराया और अपराधियों की अवैध संपत्ति को सीज किया।
  • राम जन्मभूमि मंदिर का निर्माण कराने में अहम भूमिका निभाई। करीब 500 सालों के बाद देश दुनिया में हिंदूओं के आराध्य श्री पूरूशोत्तम राम के मंदिर का शिलान्यास प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के हाथों से करवाया।
  • लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाया और पहचान छुपाकर महिलाओं के साथ छल करके शादी करने वालों के खिलाफ योगी ने कड़ा कानून बनाया।
  • कोरोना जैसी महामारी से लड़ने के लिए नया मॉडल प्रस्तुत किया जिससे कोरोना पर काबू पाया गया।
  • उत्तर प्रदेश के नोएडा सिटी में एक बहुत बड़ी फिल्म सिटी बनाने का निर्णय लिया गया।
  • प्रदेश में आ रहे निवेश को लेकर योगी जी ने कहा कि कोरोना काल में भी उत्तर प्रदेश में 56,000 करोड़ रुपए से अधिक का निवेश हुआ है। जिसमें देश की पहली डिस्प्ले यूनिट और डाटा सेंटर पार्क उत्तर प्रदेश में स्थापित हो रहे हैं।
  • गन्ना किसानों: अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश के किसानों का 1.27 लाख करोड़ रूपये से अधिक गन्ना मूल्य का भुगतान किया है। 20 नए कृषि विज्ञान केंद्रों की स्थापना की है।
  • विधुत क्षेत्र में काफी काम हुआ है। योगी आदित्यनाथ जी कहते है की उनके कार्यकाल में जिला मुख्यालय में 24 घंटे, तहसीलों में 20-22 घंटे और ग्रामीण क्षेत्रों में 16-18 घंटों की बिजली आपूर्ति की जा रही है। 1.21 लाख गांवो तक बिजली पहुंचाने का काम राज्य सरकार द्वारा किया गया है।
  • पर्यटन और धार्मिक स्थलों का सौन्दर्यीकरण करना, गंगा नदी की सफाई, राम मंदिर निर्माण, आदि पर्यटन स्थलों में काफी सुधार किया है और जहाँ नवनिर्माण की जरूरत थी वह फिर से निर्माण करवाया गया है।
  • योगी आदित्यनाथ जी के मुख्यमंत्री के कार्यकाल उत्तर प्रदेश में तीन नए इंटरनेशनल एयरपोर्ट की स्थापना का काम चल रहा है। इनके कार्यकाल में कई एक्सप्रेस वे, मेट्रो आदि के काम भी हुए है।

योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी- उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने यूपी में फैले भ्रष्टाचार, अराजकता, जिहाद, धर्मान्तरण, नक्सली और माओवादी जैसे हिंसा पर नकेल कसनी शुरू कर दी। जिसके चलते उत्तर प्रदेश में बहुत हद तक शान्ति फैल रही है। इस प्रकार आज हमने आपको योगी आदित्यनाथ के बारें में बताया। आशा करते है आपको यह लेख पंसद आयेंगा। इसके लिए आपको इस लेख को अंत तक पढ़ना होंगा।

Also Read: [Miss Universe 2021] हरनाज कौर संधू बायोग्राफी, जीवन परिचय, Awards, Biography in Hindi

योगी आदित्यनाथ से जुड़े विवाद

वैसे तो योगी जी द्वारा कही गयी बातों पर वाद विवाद होते रहते है, क्योंकि राजनीती में ये सब चलना एक आम बात है। परन्तु हम बात करेंगे एक मुख्य विवाद की जो इस प्रकार है: यह बात है 07 सितम्बर 2008 की जब योगी आदित्यनाथ पर आजमगढ़ में जानलेवा हमला हुआ था। यह हमला बहुत बड़ा था इसमें सौ से अधिक वाहनों ने योगी जी को घेर लिया था और काफी लोग उसमें लहूलुहान भी हुए। गोरखपुर दंगों में योगी आदित्यनाथ को गिरफ्तार किया गया था। यह दंगा तब हुआ जब मुस्लिमों के त्यौहार मोहर्रम के दौरान फायरिंग में एक हिन्दू युवक की मृत्यु हो गयी थी।

जिलाअधिकारी ने जानकारी दी की वह बुरी तरह जख्मी है योगी जी आप वह मत जाए। परन्तु योगी आदित्यनाथ जी वहां जाने पर आड़े रहे। और उनको बाद में शहर में श्रद्धान्जली सभा का आयोजन करने की घोषणा कर दी लेकिन जिला अधिकारी ने इसकी अनुमति नहीं दी। योगी आदित्यनाथ जी इसकी चिंता नहीं की और हजारों समर्थकों के साथ अपनी गिरफ्तारी दी। उनको IPC की 151A, 146, 147, 279, 506 के तहत जेल भेज गया था। उनकी गिरफ्तारी होने के कारण मुंबई- गोरखपुर एक्सप्रेस ट्रेन के कुछ डिब्बों में आग लगा दी गयी थी, जिसका आरोप हिन्दू युवा वाहिनी संगठन पर लगा। अगले दिन जिला अधिकारी हरी ओम और पुलिस अधिकारी राजा श्रीवास्तव का तबदला हो गया, उस समय मुलायम सिंह यादव जी की सरकार (सपा पार्टी) सत्ता में थी।

[Join Us on Telegram]

योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी FAQs

प्रश्न: योगी आदित्यनाथ जी का असली (Real) नाम किया है?

उत्तर: योगी जी का Real Name अजय सिंह बिष्ट है।

प्रश्न: योगी आदित्यनाथ की पत्नी का नाम क्या है?

उत्तर: योगी जी अविवाहित है।

प्रश्न: योगी आदित्यनाथ के पिता का नाम क्या है?

उत्तर: आनंद सिंह बिष्ट

प्रश्न: योगी आदित्यनाथ का क्रिमिनल रिकॉर्ड क्या है?

उत्तर: राजनीतिक बयानों के कारण योगी जी पर पहले क्रिमिनल रिकॉर्ड भी रहे है।

प्रश्न: योगी आदित्यनाथ के कितने भाई और बहन है?

उत्तर: योगी आदित्यनाथ के परिवार में तीन बड़ी बहने, एक बड़ा भाई और दो छोटे भाई है।

प्रश्न: योगी आदित्यनाथ कहां तक पढ़े है?

उत्तर: योगी आदित्यनाथ जी ने हेमवती नंदन बहुगुणा विश्वविद्यालय से गणित और विज्ञान में स्नातक (B.Sc) की डिग्री प्राप्त की है।

Question: What is the Yogi Adityanath Contact Number?

Answer: 09454404444

Note: योगी आदित्यनाथ बायोग्राफी (हिंदी में) || Yogi Adityanath Biography in Hindi से सम्बंधित दी गयी जानकारी इंटरनेट और अन्य स्त्रोतों के आधार पर दी गयी है। This is only for reference purpose.

मिस हरियाणा- श्रुति चोटानी बायोग्राफी [Miss Haryana 2021] Shruti Chotani Biography in Hindi

मिस हरियाणा- श्रुति चोटानी बायोग्राफी [Miss Haryana 2021] Shruti Chotani Biography in Hindi || श्रुति चोटानी जीवन परिचय || नेटवर्थ || Awards || हिसार की बेटी श्रुति चोटानी जीवनी || मिस हरियाणा का ख़िताब 2021 किसने जीता? यदि आप भी इस सवाल का जवाब ख़ोज रहे तो इस लेख में आपको जवाब जरूर मिलेगा। राजस्थान में दिसंबर 2021 में चल रहे मिस हरियाणा ख़िताब को हिसार की बेटी श्रुति चोटानी ने जीता है। इसकी घोषणा 23 दिसंबर 2021 को की गयी थी। अब बहुत सारे लोग मिस हरियाणा श्रुति चोटानी बायोग्राफी और जीवन परिचय के बारे में ख़ोज रहे होंगे। तो हम आपके लिए Shruti Chotani Biography in Hindi लेकर आये है।

मिस हरियाणा 2021 श्रुति चोटानी बायोग्राफी

श्रुति चोटानी जी के जीवन परिचय के बारे में बताने से पहले हमे मिस हरियाणा ख़िताब के बारे में जानकारी देनी होगी। उसके बाद ही आप समझ सकेंगे की कौन है Miss Haryana Shruti Chotani? अभी हाल ही में राजस्थान राज्य के जयपुर शहर में एक सौन्दर्य प्रतियोगिता आयोजित हुई यह प्रतियोगिता 17 दिसंबर से 20 दिसम्बर 2021 तक फॉरएवर स्टार इंडिया ग्रुप की तरफ से आयोजित की गयी थी। मिस एंड मिसेज इंडिया 2021 के अन्तर्गत सिटी,State Level, और नेशनल विनर्स की क्राउनिंग सेरेमनी हुई। इस सेरेमनी में राज्य स्तर पर हिसार की बेटी श्रुति चोटानी को मिस हरियाणा और मिस हिसार के खिताब/ पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

मिस हरियाणा श्रुति चोटानी जीवन परिचय

श्रुति हिसार के OP Jindal Modern School (Hisar) से पढ़ी है। इनके पिता का नाम हरीश चोटानी है जो पंजाब नेशनल बैंक में डिजी हट के डिप्टी मैनेजर के पद पर कार्यरत है। और माता का नाम राज चोटानी है जो गवर्नमेंट गर्ल्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल में प्रिंसिपल है। श्रुति चोटानी स्कूल के समय से ही एक एथलीट रही है। उन्होनें स्कूली शिक्षा के अलावा अन्य गतिविधियों में भी बढ़ चढ़कर भाग लिया है। इसके अलावा इन्होनें कॉलेज के दिनों में रैंप वॉक और किसी भी इंवेट को मैनेज करने का काम बखूबी तरीके से किया है। शिक्षा पूरी करने के बाद श्रुति चोटानी एक प्राइवेट बैंक में सेल्स मैनेजर की पद पर कार्य किया है।

Miss Haryana Shruti Chotani Biography in Hindi

इस प्रतियोगिता के लिए श्रुति चोटानी ने अपने आपको बहुत अच्छी तरह से तैयार किया है। श्रुति चोटानी हमेशा से ही योगा और खेलों में विशेष योगदान दिया है। इस प्रतियोगिता में सफलता पाने के लिए इन्होनें 100 दिन का योग अभ्यास किया। मिस हरियाणा ख़िताब की जीत का श्रेय और सारी मेहनत का श्रेय, श्रुति चोटानी अपने माता पिता को देती है, वह कहते है कि बेटियां किसी से कम नहीं होती। अगर बेटियां कुछ ठान ले तो वह कुछ भी कर गुजरने को तैयार होती है।

Shruti Chotani Biography in Hindi

पूरा नाम श्रुति चोटानी
जन्म स्थान हिसार, हरियाणा
पिता का नाम हरीश चोटानी
माता का नाम राज चोटानी
पेशा मॉडल, सेल्स मैनेजर
नागरिकता भारतीय
एजुकेशन ओपी जिंदल मॉडर्न स्कूल, स्नातक
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
Net-Worth
अवार्ड्स (Awards)
  • मिस हरियाणा 2021
  • मिस हिसार

[Miss Universe 2021] हरनाज कौर संधू बायोग्राफी, जीवन परिचय, Awards, Biography in Hindi

‘भारत रत्‍न’ अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी: Biography in Hindi, उपलब्धियां, जीवन परिचय, Quotes

श्रुति चोटानी शिक्षा (Education) कहाँ से प्राप्त की हैं?

बचपन की शिक्षा श्रुति जी ने OP Jindal Modern School (Hisar) से की हैं। इससे आगे इन्होने स्नातक की है, जिसकी पूरी जानकारी उपलब्ध नहीं है।

शिक्षा पूरी करने के बाद मिस हरियाणा श्रुति चोटानी क्या करती थी?

अपनी शिक्षा को पूरी करने के बाद श्रुति चोटानी ने सेल्स मैनेजर के तोर पर काम किया।

कौन है मिस हरियाणा श्रुति चोटानी?

श्रुति चोटानी हिसार जिले की रहने वाली है और हाल ही में उन्होंने मिस हरियाणा का ख़िताब जीता है। पेशा: से श्रुति बैंक में सेल्स मैनेजर का काम करती है।

[Join Us on Telegram for New Updates]

Miss Haryana श्रुति चोटानी कहाँ की रहने वाली है?

Shruti Chotani हिसार शहर के सेक्टर 13 की निवासी है।

हिसार की बेटी श्रुति चोटानी जीवन परिचय से सम्बंधित कोई सवाल या कोई जानकारी देना चाहते तो नीचे कमेंट लिख कर हमसे साँझा कर सकते है।

नोट: मिस हरियाणा श्रुति चोटानी बायोग्राफी से सम्बंधित जानकारी अख़बार, इंटरनेट और अन्य ऑनलाइन/ ऑफलाइन स्त्रोतों द्वारा जुटाई गयी है। यह केवल reference purpose के लिए है।

[Miss Universe 2021] हरनाज कौर संधू बायोग्राफी, जीवन परिचय, Awards, Biography in Hindi

[Miss Universe 2021] हरनाज कौर संधू बायोग्राफी || मिस यूनिवर्स हरनाज़ कौर संधू जीवन परिचय, करियर, उम्र, हाइट, वेट, धर्म, माता-पिता, Harnaaz Kaur Sandhu Biography in Hindi || Awards आदि की जानकारी इस लेख में दी गयी है। दोस्तों आज हम आपको भारत की बेटी जिसने अभी-अभी भारत का नाम पूरे विश्व में रोशन किया है उसके बारें में आपको विस्तार से बतायेंगे। भारत की इस बेटी का नाम है हरनाज कौर संधू जिसने भारत को 21 सालों के बाद मिस यूनिवर्स का ताज दिलाया है इससे पहले यह मिस यूनिवर्स का ताज सन् 2000 में लारा दत्ता ने लेकर भारत को गौरवान्वित किया था। आइये अब हम आपको हरनाज संधू के जीवन से जुड़ी जानकारियां देने जा रहे है।

मिस यूनिवर्स हरनाज कौर संधू बायोग्राफी

इजराइल में चल रहे मिस यूनिवर्स 2021 प्रतियोगिता के फाइनल में हरनाज़ कौर संधू ने Miss Universe 2021 का ख़िताब अपने नाम कर लिया है। ऐसा करने वाली वो तीसरी महिला बन गयी है। इससे पहले साल 1994 में अभिनेत्री सुष्मिता सेन ने यह ख़िताब जीता था और उसके बाद साल 2000 में यह ख़िताब अभिनेत्री लारा दत्ता ने जीता था। अब 21 सालों के बाद पंजाब की हरनाज़ कौर संधू ने इस ख़िताब पर अपना कब्ज़ा किया और भारत देश का गौरव बढ़ाया है।

Harnaaz Kaur Sandhu Biography in Hindi
Harnaaz Kaur Sandhu Biography in Hindi

About to Harnaaz Kaur Sandhu Biography in Hindi

पूरा नाम हरनाज़ कौर संधू
Nick Name कैंडी
जन्म (Date of Birth) 03 मार्च 2000
जन्म स्थान चंडीगढ़, पंजाब, भारत
पिता और माता का नाम प्रीतमपाल सिंह संधू (पिता) और रबिन्द्र कौर संधू (माता)
उम्र (Age) 21 साल
पेशा मॉडल, ऐक्टर
खिताब मिस यूनिवर्स 2021
नागरिकता भारतीय
एजुकेशन गवर्नमेंट कॉलेज फॉर गर्ल्स, चंडीगढ़ (स्नातक)
गृहनगर चंडीगढ़, भारत
धर्म सिख
जाति पंजाबी
कद (Height) 5 फीट 9 इंच
वजन 50 किलोग्राम
शारीरिक माप 34 -26 – 34
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
आखों का रंग काला
बालों का रंग ब्राउन
पसंदीदा एक्टर (Favorite Actor) शाहरुख़ खान
शौक डांस करना
पसंदीदा एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा
पसंदीदा सॉन्ग (Favorite Song) इस्माइल   ( कैटी पेरी द्वारा )
अवार्ड्स (Awards) फेमिना मिस इंडिया पंजाब 2019,
मिस चंडीगढ़ 2017,
मिस दिवा 2021,
मिस यूनिवर्स 2021

व्यक्तिगत परिचयः- हरनाज कौर संधू बायोग्राफी

हरनाज संधू का जन्म 3 मार्च 2000 को पंजाब के गुरदासपूर के एक छोटे से गांव में हुआ था। इनके पिता का नाम प्रीतमपाल सिंह संधू है और माता का नाम रबिन्द्र कौर संधू है। इनका एक भाई है जिसका नाम हरनूर सिंह संधू है।

हरनाज संधू – शैक्षणिक योग्यता (Education)

हरनाज संधू ने अपनी स्कूल की पढ़ाई शिवालिक पब्लिक स्कूल चंडीगढ़ से की है। ग्रेजुएशन की पढ़ाई इन्होने पोस्ट ग्रेजुएट गर्वमेंट काॅलेज, चण्डीगढ़ से की है।

Also Read: ‘भारत रत्‍न’ अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी – Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi

Career: हरनाज कौर संधू करियर

ब्यूटी पेंजेट को अपना कैरियर बनाने का सपनाः हरनाज संधू को बचपन से ही कुछ कर दिखाने की जिद थी इसलिए उन्होनें अपना कैरियर ब्यूटी पेंजेट में बनाना शुरू किया। इसके लिए उन्होनें अपनी फिटनेस और योगा को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बना लिया।

और 17 साल की उम्र में इन्होनें अपने ब्यूटी पेंजेट के कैरियर को गंभीरता से लेना शुरू किया। सन् 2017 में मिस चंडीगढ़ का खिताब जीता और 2018 में मिक्स इमर्जिंग स्टार इंडिया का खिताब जीता। साथ ही फेमिना मिस इंडिया पंजाब 2019 में जीता और फेमिना मिस इण्डिया में टाॅप 12 में अपनी जगह बनाई।

इसके अलावा 16 अगस्त 2021 को मिस दीवा यूनिवर्स 2021 को टाॅप 50 सेमी फाइनलिस्ट की लिस्ट में भी इनको शामिल किया गया और 23 अगस्त 2021 को टाॅप 20 फाइनलिस्ट में नाम शामिल हुआ। हरनाज संधू ने मिस दीवा यूनिवर्स 2021 के ग्रेंड फिनाले के दौरान यह कहा था कि “एक लड़की जो मानसिक स्वास्थ्य वाली युवा लड़की है जिसे धमकाने और बाॅडी शेमिंग का सामना करना पड़ा इसके बावजूद भी एक फीनिक्स की तरह उभरी और उसको अपनी असली क्षमता का एहसास हुआ, ऐसी महिला के रूप में अपने अस्तित्व को सबके सामने बिखेरा जिससे युवा वर्ग में प्रेरित होने की उम्मीद जागी। आज मैं एक साहसी, जीवंत और दयालु के रूप में इस ब्रह्मांड के सामने गर्व से खड़ी हूँ जो कि एक उद्देश्य के साथ जीवन जीने को तैयार है।“

मिस दिवा यूनिवर्स के अंतिम प्रश्न के दौरान हरनाज संधू ने ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन के विषय को चुना था, उन्होनें कहा था कि पर्यावरण का मरने का सबसे बड़ा कारण हम ही है। हमने ही अपनी असफलताओं के माध्यम से पर्यावरण को मरने पर मजबूर कर दिया है। हमारे पास पर्यावरण को पूर्ववत करने का अभी भी समय है। जब हमारे छोटे-छोटे से कार्य अरबों से गुणा किये जाते है तो हम पूरी दूनिया को बदल सकते है। आज से ही हमें अतिरिक्त लाइटों को बंद कर देना चाहिए जो प्रयोग में नहीं है।

मिस यूनिवर्स जीतने पर हरनाज कौर संधू के परिवार ने क्या कहाँ?

इस ऐतिहासिक जीत पर हरनाज संधू का परिवारः- जिस समय हरनाज कौर को यह ताज विदेशी भूमि पर पहनाया जा रहा था तब हरनाज कौर की माँ रबिन्द्र कौर संधू गूरूद्वारे में अरदास कर रही थी। हरनाज कौर की माँ ने बताया कि हरनाज कौर को मक्की की रोटी और सरसों का साग बहुत पंसद है जब वह घर वापिस आयेंगी तो उसे मक्की की रोटी और सरसों का साग खिलाउंगी क्योंकि इनमें कैलोरी नहीं बढ़ती है। हरनाज कौर के भाई हरनूर सिंह संधू ने बताया कि वह बचपन से ही शांत स्वभाव की है और अपने उद्देश्य/लक्ष्य पर फोकस करती है। उसको स्कूल के दिनों से ही पता है कि उसने एक दिन इस खिताब को जीतना हैं। यह मेरे लिए बहुत ही गर्व का क्षण है जिसें मैं अपने शब्दों से व्यक्त नहीं कर सकता।

फिल्मों में काम: हरनाज कौर संधू जीवनी

बहुत कम लोगो को ही पता होगा की हरनाज कौर ने पंजाबी फिल्मों में भी काम किया है। जिसमें “यारा दिया पू बरन“ और “बाई जी कुटेंगे “ जैसी फिल्में शामिल है।

ऐतिहासिक जीत पर हरनाज संधू की प्रेरक कहानी

इस ऐतिहासिक जीत पर हरनाज संधू की प्रेरक कहानीः- आज हरनाज संधू पूरी दुनिया पर राज कर रही है पर किशोरावस्था के समय दूबले होने के कारण उसको कई परेशानियों का सामना करना पड़ा। वह अपने आपको अन्र्तमुखी भी बताती है जिसमे वह अपने आपको किसी के सामने व्यक्त नहीं कर पाता हैं। हरनाज संधू ने कहा कि मैंने अपनी ताकत पर विश्वास करके यह माना कि हर व्यक्ति अपने आप में अद्वितीय है जो औरों से उसको अलग बनाता है। आज मैनें उस पर काबू पा लिया है और यह सब मेरी माँ के कारण हो पाया है जिसने मुझे अपनी ताकत पर विश्वास दिलाया। मेरी माँ मेरे लिए हमेशा से मेरी हीरो रही है। मेरे बुरे दौर में मेरा परिवार बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जिसने मुझे उस बुरे दौर में संभाला है। अगर आज मैं यहां आत्मविश्वास के साथ खड़ी हूँ तो केवल अपने परिवार की वजह से हूँ।

जब हरनाज कौर संधू से पूछा गया कि आपको अपने परिवार के अलावा किससे प्रेरणा मिलती है तो उन्होनें प्रिंयका चोपड़ा का नाम लिया क्योंकि उनका मानना है कि प्रियंका चोपड़ा एक ऐसा व्यक्तित्व है जिसने अपनी आभा साहस और दृढ़ सकंल्प से दूनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है और भारत को वैश्विक तौर पर गौरवान्वित किया है। मैं भी ऐसे ही व्यक्तित्व को पाने की इच्छा रखती हूँ।

>> Join Us on Telegram for Latest Updates

FAQs – हरनाज कौर संधू बायोग्राफी

प्रश्न: हरनाज़ कौर संधू उम्र क्या है?

उत्तर: मिस यूनिवर्स हरनाज़ संधू की उम्र 21 साल है। इनका जन्म 03 मार्च 2020 में चंडीगढ़ में हुआ था।

प्रश्न: हरनाज़ कौर संधू के बॉयफ्रेंड का क्या नाम है?

उत्तर: हरनाज़ कौर के बॉयफ्रेंड के बारे में अभी तक कोई जानकारी प्राप्त नहीं हुई है।

प्रश्न: हरनाज कौर संधू ने मिस यूनिवर्स का ख़िताब कब जीता?

उत्तर: इजराइल देश में आयोजित मिस यूनिवर्स 2021 का ख़िताब हरनाज़ कौर संधू ने 13 दिसंबर 2021 को जीता था।

प्रश्न: मिस यूनिवर्स ख़िताब क्या होता है?

उत्तर: यह एक प्रतियोगिता होती है, जिसमे अलग- अलगे देशों से सबसे सुंदर महिलायें भाग लेती है। उन सभी पार्टिसिपेंट्स में से किसी एक को फाइनल में “मिस यूनिवर्स” का ख़िताब दिया जाता है।

प्रश्न: हरनाज़ संधू की हाइट कितनी है?

उत्तर: 05 फीट 09 इंच

नोट: हरनाज कौर संधू बायोग्राफी से सम्बंधित जानकारियां अलग- अलग इंटरनेट स्रोतों, अख़बार व अन्य स्रोतों से इखट्टा की गयी है।

आज हमने आपको मिस यूनिवर्स 2021 हरनाज कौर संधू जिसने भारत को अपने दृढ़ क्षमता और अपने आत्मविश्वास के दम पर गोैरवान्वित किया है के बारें में बताया। आशा करतें है आपको हरनाज कौर संधू बायोग्राफी || हरनाज कौर संधू जीवन परिचय में दी गयी जानकारी पसंद आयी होगी।

‘भारत रत्‍न’ अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी: Biography in Hindi, उपलब्धियां, जीवन परिचय, Quotes

‘भारत रत्‍न’ अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी: Bharat Ratna Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi, उपलब्धियां, जीवन परिचय, इतिहास में योगदान, Quotes, अटल जी की कविताएँ आदि की जानकारी आज हम आपको इस लेख में देने जा रहा है। स्वागत है दोस्तों आज के हमारे इस लेख में हम आपको एक ऐसे सख्स के बारे में बताने जा रहे है जिसका नाम अपने जरूर सुना होगा, जी हां दोस्तों उनका नाम है श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी। इस लेख हम उनके जीवन से जुड़े सभी तरह के पहलुओं के बारे में बताने जा रहे है जैसे कि उनका जन्म स्थान कहां हुआ? उन्होंने अपनी शिक्षा कहां ग्रहण की? राजनीतिक जीवन का प्रारंभ कब किया? और उनके द्वारा किए गए तमाम योगदानों आदि के बारे में तो आपका ज्यादा समय न लेते हुए शुरू करते हैं।

अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी: Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi 

वैसे तो दोस्तों अपने अटल बिहारी वाजपेयी जी को भारतीय इतिहास में एक प्रधानमंत्री के रूप में कई बार नाम सुना होगा उनसे जुडी कई बाते आपको पता भी होगी। लेकिन अटल जी एक अच्छे नेता होने के साथ-साथ एक अच्छे पत्रकार और कवि भी रहे थे। उन्होंने कई बार भारतीय सदन के अंदर भी कविताओं के जरिए पक्ष और विपक्ष के नेताओं का दिल जीत लिया था। कवित्व का गुण उनको विरासत में उनके पिता से मिला था।

प्रारम्भिक जीवन: अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म कब और कहाँ हुआ था?

भारतीय इतिहास में तीन बार के प्रधानमंत्री रहने वाले अटल बिहारी वाजपेयी जी का जन्म एक मध्यम वर्गीय परिवार में 25 दिसंबर 1924 में मध्य प्रदेश जिले के ग्वालियर के एक गांव में हुआ था (पैतृक गांव – बटेश्वर)। उनके पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी एक शिक्षक और एक कवि भी थे। उनकी माता का नाम कृष्णा देवी वाजपेयी और उनके 7 भाई बहन भी थे, जिनके नाम हम आपको आगे बतायेंगे।

Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi
Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi

अटल बिहारी वाजपेयी जी ने शिक्षा कब और कहाँ से ग्रहण की?

वाजपेयी जी ने अपनी हाई स्कूल की शिक्षा सरस्वती शिक्षा मंदिर, गोरखी, बाड़ा, विद्यालय से प्राप्त की इसके बाद उन्होंने स्नातक की शिक्षा लक्ष्मीबाई कॉलेज से पूरी की और विधि स्नातक की डिग्री उन्होंने कानपुर में स्थित डीएवी (DAV) कॉलेज से अर्थशास्त्र विषय में ली। अटल जी छात्र जीवन से ही राजनीतिक तथ्यों से संबंधित वाद विवाद में हिस्सा लेना पसंद करते थे और वे हमेशा ऐसी प्रतियोगिताओं में भाग लेते रहते थे। आगे चलकर सन् 1939 अपने छात्र जीवन में उन्होंने स्वयंसेवक की भूमिका भी निभाई। उन्होंने हिंदी न्यूज़ पेपर में संपादक (Editor) का काम भी किया।

आपको बता दे की वाजपेयी जी ने कभी शादी नहीं की उन्होंने दो बच्चियों को गोद लिया था जो बीएन कॉल की बेटियां नमीता और नंदिता थी। आजादी की लड़ाई में वे अनेक नेताओं के साथ मिलकर लड़े। फिर हमारे देश के लिए अत्यंत दुःख भरा दिन रहा, जब 16 अगस्त 2018 को दिल्ली के एम्स अस्पताल में उन्होंने आखिरी सांस ली। यह दिन हमारे देश की सभी देशवासियों के लिए अत्यंत क्षति वाला दिन था। हमारे देश ने एक महान राजनेता को खो दिया। आज भी अटल जी द्वारा दिए गए भाषण, लिखी गयी किताबें, कविताओं और प्रधानमंत्री के तोर पर किये गए कामों आदि द्वारा उन्हें सम्मान के साथ याद किया जाता है।

Key Highlights of Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi

जीवन परिचय बिंदु अटल बिहारी जीवन परिचय
पूरा नाम अटल बिहारी वाजपेयी
जन्मदिन 25 दिसम्बर 1924
मृत्यु 16 अगस्त 2018
जन्म स्थान ग्वालियर, मध्यप्रदेश
पैतृक गांव बटेश्वर, आगरा
राशि (Zodiac) मकर राशि
धर्म (Religious) हिन्दू
माता-पिता कृष्णा देवी, कृष्णा बिहारी वाजपेयी
विवाह नहीं हुआ
राजनीतिक पार्टी भारतीय जनता पार्टी
शिक्षा (Education) कला स्नातक और लॉ स्नातक
कुल संपत्ति (Net Worth) 02 मिलियन डॉलर
घर का पता (Home Address) 6-ए, कृष्णा मेनन मार्ग, नई दिल्ली – 110011

अटल बिहारी वाजपेयी का राजनितिक जीवन/ सफर

  • सन् 1942 में अटल बिहारी वाजपेयी जी ने अपनी राजनीतिक जीवन के सफर शुरू किया था। जैसा की आप सभी को पता होगा उस समय भारत छोड़ो आंदोलन जोर शोर से चल रहा था और इसी दौरान उनके भाई को इस आंदोलन में गिरफ्तार कर लिया गया था। इनके भाई को 23 दिनों के लिए जेल कारावास में रहना पड़ा था, उसके बाद उन्हें रिहा कर दिया गया था। उसी समय उनकी मुलाकात श्यामा प्रसाद मुखर्जी से हुई और उनके आग्रह करने पर उन्होंने भारतीय जनसंघ पार्टी को ज्वाइन कर लिया। भारतीय जनसंघ पार्टी का गठन सन् 1951 में हुआ था।
  • इसके बाद सन् 1957 में जनसंघ पार्टी द्वारा अटल बिहारी वाजपेयी जी को अपने उम्मीदवार के तौर पर उत्तर प्रदेश जिले के बलरामपुर लोकसभा सीट से इलेक्शन के लिए टिकट दी गयी और अटल जी ने लोकसभा चुनाव में अपनी पहली जीत दर्ज की। इसके बाद उनकी उपलब्धि को देखते हुए उन्हें पार्टी का अध्यक्ष बनाया गया। अटल जी 2 साल तक मोरारजी देसाई कि सरकार में वर्ष 1977 से 1979 तक विदेश मंत्री रहे जिससे हमारे देश की प्रति विदेशों में एक विश्वासी देश की पृष्ठभूमि तैयार करने में उनका बहुत योगदान रहा।
  • इसके बाद सन् 1980 में अटल बिहारी वाजपेयी जी ने अपनी एक पार्टी का गठन किया जो थी भारतीय जनता पार्टी और 06 अप्रैल 1980 को अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला। लोकसभा चुनाव सन् 1996 में भारतीय जनता पार्टी का देश भर में पहला विजय चुनाव रहा। इस चुनाव से बीजेपी ने देश में पहली बार अपनी सरकार को स्थापित किया और मात्र 13 दिनों के लिए 06 मई से 21 जून 1996 तक देश के दसवें प्रधानमंत्री के रूप में अटल जी ने शपथ ली।
  • 13 दिनों तक ही सरकार चलने के बाद अटल जी की सरकार गिर गई और फिर सन् 1988 में सरकार गिरने के 2 साल बाद पार्टी सत्ता में आई और 19 मार्च 1998 में अटल जी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली और फिर 10 अक्टूबर 1999 को तीसरी बार प्रधानमंत्री पद के लिए शपथ ली।

Family Information: अटल बिहारी वाजपेयी के परिवार के बारे में जानकारी

पिता का नाम (Father’s name) कृष्णा बिहारी वाजपेयी
माता का नाम (Mother’s name) कृष्णा देवी
दादा का नाम (Grandfather’s Name) पंडित श्याम लाल वाजपेयी
कुल भाई बहने (Total Sibling) छह
पत्नी का नाम (Wife’s Name) Not Married
बेटी का नाम (Daughter’s Name) नमिता भट्टाचार्य
कुल बच्चे एक बेटी
भाई बहनों के नाम (Brothers, Sisters Name)  भाईयों के नाम:

  • प्रेम बिहारी वाजपेयी
  • अवध बिहारी वाजपेयी
  • सुदा बिहारी वाजपेयी

बहनों के नाम:

  • विमला मिश्रा
  • उर्मिला मिश्रा
  • कमला देवी

प्रधानमंत्री के कार्यकाल में अटल जी के द्वारा किए गए प्रमुख कार्य / मुख्य उपलब्धियां

  • भारत को परमाणु शक्ति संपन्न देश बनाया

सबसे पहले अटल बिहारी वाजपेयी जी ने प्रधानमंत्री रहते हुए राजस्थान के पोखरण में सन् 1998 में 11 मई और 13 मई को पांच भूमिगत परमाणु परीक्षण विस्फोट करके हमारे देश को परमाणु शक्ति संपन्न देश बनाया। यह एक साहसिक कदम था, जिससे हमारे देश को अलग ही पहचान मिली। भारत देश का यह परमाणु परिक्षण इतनी गोपनीयता से किया गया था की पश्चिमी देशों की आधुनिक तकनीक भी नहीं पकड़ पायी थी। परमाणु परिक्षण के बाद कुछ देशों ने अनेक प्रतिबंध भी लगये परन्तु अटल जी ने इन सब चीज़ों की परवाह न करते हुए आगे बढ़े और हमारे देश को नई आर्थिक विकास की ऊँचाईयों तक ले गए।

  • पाकिस्तान के साथ संबंधों को सुधारने की पहल की

अटल जी ने 19 फरवरी 1999 में दिल्ली से लाहौर तक की बस सेवा शुरू की, जिसे सदा-ए-सरहद का नाम दिया गया। बस सेवा शुरू कर के दोनों देश के बीच आपसी रिश्ते में सुधार लाने की पहल की और उस समय उन्होंने पाकिस्तान का दौरा भी किया और वहां के तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज़ सरीफ से मुलाकात भी की।

  • कारगिल युद्ध (1999)

कुछ समय बाद पाकिस्तानी सेना प्रमुख परवेज़ मुसर्रफ की शह पर पाकिस्तानी सेना और आतंकवादियों द्वारा कारगिल क्षेत्र में घुसपैठ शुरू कर दी और कई पहाड़ की चोटियों पर अपना कब्ज़ा कर लिया। तब जवाबी कार्यवाही में अटल बिहारी जी की सरकार ने ठोस कदम उठाएं और भारतीय सेना को खुला समर्थन दिया। जिससे कि हमारी सेना ने पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड़ दिया और उन्हें धूल चटा दी।

  • स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना

अटल बिहारी वाजपेयी जी ने ही भारत के सड़क मार्ग को जोड़ने का काम चारों कोनों से किया है। इसमें दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई और मुंबई जैसे प्रमुख शहरों को राजमार्गों से जोड़ने का काम किया गया जिसे स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना का नाम दिया गया और अभी तक अटल बिहारी वाजपेय जी की सरकार ने ही सबसे ज्यादा सड़के बनवाई है।

[PMAY] प्रधानमंत्री आवास योजना 2022

विधवा पेंशन योजना ऑनलाइन आवेदन

[PMSYM] प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना

[PMMVY] प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना

[PMSS] प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजना

[पंजीकरण] इंदिरा गांधी पेंशन योजना

अटल सरकार द्वारा किये गए अन्य प्रमुख कार्य

  • अटल जी की सरकार में 100 वर्ष से भी पुराने कावेरी जल विवाद को सुलझाया गया।
  • कई समितियों और आयोगों का गठन किया गया जैसे राष्ट्रीय सुरक्षा समिति, आर्थिक सलाह समिति, व्यापार एवं उद्योग समिति आदि।
  • राष्ट्रीय राजमार्गों एवं हवाई अड्डों का विकास किया गया।
  • नयी टेक्नोलॉजी, विद्यतीकरण को गति देना, दूरसंचार को बढ़ावा देना आदि।
  • ग्रामीण क्षेत्र में रोजगार के अवसर पैदा करना और विदेशों में बसे भारतीयों के लिए बिमा योजना को शुरू किया।
  • अर्बन सीलिंग एक्ट समाप्त कर आवास निर्माण को प्रोत्साहन दिया।
  • नई टेलीकॉम नीति और कोकण रेलवे की शुरुआत की। इनके कार्यकाल में टेलीकॉम क्षेत्र और रेलवे विभाग विकास की नई ऊँचाईयों को छुआ।

अटल जी से जुड़े विवाद (Controversy)

  • अटल बिहारी वाजपेयी जी को हमेशा से ही एक साफ छवि के नेता के तौर पर देखा जाता रहा है और रहेगा भी। पंरतु इसके साथ कुछ विवाद भी जुड़े है। इसमें सबसे पहले बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले का नाम लिया जाता है। जिस वक्त बाबरी मजिस्द को गिराया गया था, उस वक्त विपक्ष के कई नेताओं द्वारा अटल जी की भूमिका पर भी सवाल खड़े किए गए थे। क्योंकि इस मजिस्द के खिलाफ उस वक्त बीजेपी के कई नेताओं द्वारा रैली निकाली गई थी।
  • दूसरा विवाद कंधार प्लेन हाईजैक से जुड़ा है। यह बाद 24 दिसंबर 1999 की है, तब काठमांडू से दिल्ली से उड़े एक विमान को हथियारबंद आतंकियों द्वारा हाईजैक कर लिया था। तब विमान में 176 यात्रियों और 15 क्रू मेंबर्स की जान बचाने के लिए तीन आतंकी: मसूद अजहर, उमर शेख और अहमद जरगर को रिहा करना पड़ा था। इस मामले को लेकर अटल जी कड़ी निंदा हुई थी। विपक्ष का कहना था की यदि सरकार सूझबूझ से काम लेती तो विमान यात्रिओं की जान आतंकियों को छोड़े बिना भी बचायी जा सकती थी।
  • तीसरा मामला उनपर कारगिल युद्ध को लेकर भी सवाल उठाये जाते थे।

अटल बिहारी वाजपेयी की कुल संपत्ति (Total Assets)

  • अटल जी के पास कुल 2 मिलियन डॉलर की संपत्ति है। इसके अलावा अटल जी का दिल्ली के ईस्ट ऑफ कैलाश इलाके में एक फ्लैट भी है, जिसकी कीमत करोड़ रुपए में है।

अटल बिहारी वाजपेयी की प्रमुख रचनायें || पुस्तकों के नाम

जैसा की दोस्तों हमने आपको पहले भी कहाँ है की अटल जी एक अच्छे प्रधानमंत्री के साथ-साथ एक अच्छे लेख और कवि भी रहे है उनके द्वारा कुछ प्रकाशित रचनाओं के नाम इस प्रकार है:

  • भारत की विदेश नीति: नई डायमेंशन
  • राजनीति की रपटीली राहें
  • राष्ट्रीय एकीकरण
  • क्या खोया क्या पाया
  • मेरी इक्यावन कविताएं
  • न दैन्यं न पलायनम्
  • 21 कविताएं
  • Decisive Days
  • असम समस्या: दमन समाधान नहीं
  • शक्ति से संती
  • Back to Square One
  • Dimension of an Open Society

अटल बिहारी वाजपेई द्वारा दी गई महत्वपूर्ण टिप्पणियां (Quotes)

  • मनुष्य को चाहिए कि वह परिस्थितियों से लड़े, एक स्वप्न टूटे तो दूसरा गढ़े ।
  • अपना देश एक मंदिर है, हम पुजारी हैं, राष्ट्र देव की पूजा में हमें अपने आपको समर्पित कर देना चाहिए।
  • हमारे पड़ोसी कहते हैं एक हाथ से ताली नहीं बजती हमने कहा की चुटकी तो बज सकती है।
  • मन हारकर मैदान नहीं जीते जाते, न मैदान जीतने से मन जीते जाते हैं।
  • आदमी की पहचान उसके पद से या धन से नहीं होती, उसके मन से होती है, मन की फकीरी पर तो कुबेर की संपदा भी रोती है।

Awards: अटल बिहारी वाजपेयी को मिले पुरस्कार और सम्मान

संख्या           पुरस्कार का नाम वर्ष किसके द्वारा दिया गया अवॉर्ड
1 पद्म विभूषण 1992 भारत सरकार
2 डॉक्टर ऑफ लेटर 1993 कानपुर विश्वविद्यालय
3 उत्कृष्ट संसदीय पुरस्कार 1994 भारतीय संसद
4 लोकमान्य तिलक पुरस्कार 1994 भारत सरकार
5 भारत रत्न पंडित गोविंद वल्लभ पंत पुरस्कार 1994 भारत सरकार
6 भारत रत्‍न
2015 भारत सरकार
7 बांग्लादेश लिबरेशन वार सम्मान 2015 बांग्लादेश सरकार
  • वर्ष 2015 में भारत रत्न पाने वाले 44वें व्यक्ति बने।

कविता संग्रह: अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी

क़दम मिला कर चलना होगा। कौरव कौन, कौन पांडव ।
दूध में दरार पड़ गई । हरी हरी दूब पर।
मनाली मत जइयो । क्षमा याचना ।
अंतरद्वंद्व । पुनः चमकेगा दिनकर ।
मौत से ठन गई। जीवन की ढलने लगी साँझ ।
एक बरस बीत गया। मैं न चुप हूँ न गाता हूँ ।
आओ फिर से दिया जलाएँ।

निष्कर्ष (Conclusion)

तो दोस्तों हमारी टीम द्वारा अटल बिहारी वाजपेयी जी की जीवनी से संबंधित कई महत्वपूर्ण तथ्यों को समझाने की कोशिश की है और उनके योगदानों के बारे में भी बताया है। वे एक सच्चे देशभक्त थे और हमेशा रहेंगे। इसी के साथ मैं आपसे आज्ञा लेता हूं। इस लेख से संबंधित अगर आपको कोई चीज समझ में नहीं आई है तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट कर हमसे पूछ सकते हैं हम आपको उचित जानकारी देने की पूरी कोशिश करेंगे। धन्यवाद।

>> Join Us on Telegram for Latest Updates

FAQs (Frequently Asked Questions) – अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी

प्रश्न: अटल बिहारी वाजपेयी जी का जन्म कब और कहाँ हुआ?

उत्तर: वाजपेयी जी का जन्म 25 दिसंबर 1924 में मध्य प्रदेश जिले के ग्वालियर शहर के एक गांव में हुआ था। इनके पैतृक गांव का नाम “बटेश्वर” है।

प्रश्न: अटल बिहारी वाजपेयी जी को भारत रत्न पुरस्कार कब दिया गया?

उत्तर: अटल जी को भारत रत्न पुरस्कार सन् 2015 में दिया गया था। इस पुरस्कार को देने की घोषणा सन् 2014 में इनके जन्मदिन से ठीक एक दिन पहले यानि 24 दिसंबर 2014 को की गयी थी।

प्रश्न: अटल जी की मृत्यु कब और कैसे हुई?

उत्तर: अटाली जी का निधन 16 अगस्त 2018 में दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में हुआ था। इनका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने बताया की अटल जी का निधन निमोनिया और बहु अंग विफल होने के कारण हुआ है। 93 वर्ष की आयु में हुआ था अटल जी का निधन।

प्रश्न: अटल बिहारी वाजपेयी जी कितनी बार प्रधानमंत्री बने?

उत्तर: अटल बिहारी वाजपेयी जी तीन बार भारत देश के प्रधानमंत्री बने। सबसे पहले सन् 1996 में 13 दिनों के लिए प्रधानमंत्री का कार्यभार संभाला। इसके बाद 1998 से 1999 में 13 महीनों के लिए एक बार फिर से प्रधानमंत्री बने। और अंत में 1999 से 2004 तक पूरे पांच वर्षों तक प्रधानमंत्री का कार्यकाल पूरा किया।

प्रश्न: अटल बिहारी वाजपेयी ने राजनीती से कब संन्यास लिया ?

उत्तर: अटल बिहारी वाजपेयी जी ने 29 दिसंबर 2005 को “सत्ता की सक्रिय राजनीती” से संन्यास की घोषणा की थी।

आशा करते है की अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी से सम्बंधित जानकारी अच्छी लगी होगी अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी से सम्बंधित सवाल पूछने के लिए नीचे कमेंट करें। और इस लेख में “Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi” दी गयी जानकारी किसी लगी अवसय बताये हमें।